किशोरवय बच्चों के कल्याण का अध्ययन (संस्कृति के विशेष सन्दर्भ में )

Bharti Pant Gururani

Abstract


         प्रस्तुत अध्ययन सामान्य जाति और जनजाति  (थारू बोक्सा) के किशोरवय बच्चों के आयु, सांस्कृतिक विशिष्टता, पारिस्थितिक विभिन्नता तथा सहयोगात्मक परिस्थिति के स्तर का कल्याण के साथ सम्बन्ध का मापन करने हेतु किया गया । इसमें 15 से 10 वर्ष की आयु के 480 प्रतिभागियों का चयन किया गया। इन पर शुक्ला एवं पन्त (2008) द्वारा निर्मित कल्याण सूचक मापनी ( Well Being Scale) प्रशासित की गयी। उक्त मापनी पर सहभागियों के प्राप्तांकों के विश्लेषण हेतु प्रसरण विश्लेषण और सहसम्बन्ध विश्लेषण विधि प्रयुक्त की गयी।
     

आंकडों से प्राप्त तथ्य निम्न प्रकार हैं –

  • सभी स्वतंत्र चर कल्याण मानवीय पर अपना प्रभाव डालते हैं ।
  • अन्तः परिणात्मक सहसम्बन्ध पूर्णरूप से सार्थक है।

Full Text:

PDF

References


M.C. Nulty (2012), James, Frank D. Fincham (Feb. 2011) : ‘‘ Beyond positive Psychology’’ American Psychologyjist 67; 101-110.

Diener, suh, Ed, Funkook (2000): Cutture and Subiective well being. A Bradford Book. P.4

Argle (1987): The Psychology of happiness. London. Methuen.

Brief, A P Butcher, Geovge and J. M. & Link, K. E. (1993) : Integrating bottom up and top-down theoris of subjective well-being; The case of health. Journal of Personality and Social Psychology. 64.646-653.

Brandburn, N.M. & Caplovitz, D.C. (1965): Reports on happiness. Chicago. Atdine.

Gurian, G. Veroffj & Feld (1960): Americans View their mental health Newyork; Basic Book.

Wespman, A.E. (1957): A Psychological inauiry into satiasfaction and happiness (doctoral dissertation Princeton University, 1956). Dissertation Abstracts International 17, 1384 (University Microfilms Nb 00-20, 168.


Refbacks

  • There are currently no refbacks.


Creative Commons License
This work is licensed under a Creative Commons Attribution 3.0 License.