छत्तीसगढ़ राज्य के आदिवासियों में विकास और विस्थापन की स्थिति : एक विश्लेषणात्मक अध्ययन

MOHAMMAD AAMIR PASHA

Abstract


भारतीय समाज में आज आदिवासियों की स्थिति बहुत ही दयनीय है। विस्थापन के कारण उन्हे अपने बसे-बसाए, घर-दालान, गाँव, लोग इत्यादि को छोडकर जाना पड़ता है। दुनिया को केवल भौतिक विस्थापन ही नज़र आता है। परंतु एक आदिवासी अपने मन, अपने जीवन, संस्कृति और सभ्यता से भी विस्थापित होता है। आदिवासी केवल जल, जंगल और ज़मीन तक ही सीमित नही है बल्कि ये मूल भारतीय भारत की पृष्टभूमि को विश्व पटल पर भी प्रस्तुत करते हैं, परंतु विडम्बना ये है कि जो देश के मूल निवासियों के वंशज अब केवल 8 प्रतिशत ही बचे हैं। इनकी स्थिति और भी बदतर होती जा रही है। वहीं आदिवासियों की मूलभूत सुविधा ही प्रदान करने में सरकार असमर्थ दिख रही है। यह हालात और भी दयनीय हो जाते हैं जब विकास के नाम पर आदिवासियों का विस्थापन किया जाता है। भारत में सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक स्तर पर आदिवासी सबसे कमजोर और वंचित लोगों की श्रेणी में आते हैं और विस्थापित भी यही आदिवासी होते हैं परंतु विकास का अल्प लाभ भी इन्हे प्राप्त नही होता। विकास परियोजनाओं के कारण विस्थापित होने वाले लोगों की कुल संख्या में अनुसूचित जनजाति के लोगों की तादाद 40 प्रतिशत है। परंतु इन्हे सड़क, यातायात, बिजली, पेयजल, संचार और स्वस्थ सेवा आदि आधारभूत सुविधा से प्रायः ये वंचित ही रहते हैं। इस शोध पत्र में छत्तीसगढ़ में आदिवासियों के विस्थापन का अध्ययन करेंगे साथ-साथ विस्थापन के कारण का भी पता लगाने का प्रयास किया जाएगा। ज़्यादातर आदिवासी विकास के लिए तैयार की गई योजनाओं के अंतर्गत विस्थापित हुए हैं। परंतु विकास की स्थिति क्या है और यह विकास किसके लिए है। यह बता पाना मुश्किल है।  इस शोध पत्र में विस्थापन के उद्देश की कितनी पूर्ति छत्तीसगढ़ राज्य में हुई है इसका भी अध्ययन करेंगे। शोध पत्र पूर्णतः द्वितीयक स्रोतों पर आधारित है। द्वितीयक स्रोत में समाचार पत्र-पत्रिका, सरकारी आंकड़े, आरटीआई, संसद की रिपोर्ट और विभिन्न ब्लॉग और वैबसाइट आदि।


Keywords


आदिवासी, विस्थापन, विकास

Full Text:

PDF

References


Melkote, S. R. (1991). Development Communication in the Third World: Theory and Practice..New Delhi, India: Sage

सिंह, अशोक. (2012). विकास के नाम पर विस्थापन झेलती आदिवासी महिलाएं. वैबसाइट- pravakta.com

पुतुल, आलोक प्रकाश. (2007). बस्तर लोहा गरम है. वैबसाइट- www.hashiya.blogspot.com

वार्षिक रिपोर्ट. (2014-15). जनजाति कल्याण मंत्रालय. नई दिल्ली. वैबसाइट- www.tribal.nic.in

यादव. शरद कुमार. (2014). आदिवासियों की कीमत पर विकास. वेबसाइट http://www.samayantar.com

Punwani, Jyoti. (Jan. 27 - Feb. 2, 2007). Traumas of Adivasi Women in Dantewada. Retrieve: http://www.jstor.org/stable/4419179

Prasad, Archana. (June 25, 2016). Adivasis and the Anatomy of a Conflict Zone Bastar 2016. Economic and Political Weekly, Vol. 26, pp. 12-15

Kujur, Joseph Marianus. (2008). Development-induced Displacement in Chhattisgarh: A Case Study from a Tribal Perspective. Social Action, Vol. 58. Page- 31-39.

संघर्ष संवाद.(2015). बस्तर में अल्ट्रा मेगा स्टील प्लांट के खिलाफ विरोध प्रदर्शन शुरू. वैबसाइट- http://www.sangharshsamvad.org/2015/05/blog-post_12.html#sthash.jELiCLsG.dpuf

आदिवसी विकास से विस्थापन. (2011). वैबसाइट- http://ektahindi.blogspot.in/2011/05/blog-post_7468.html 12.03.2015

शर्मा, सुनील. (2011). यहां खत्म हो रही है आबादी. बिलासपुर. 31 अक्टूबर 2011.

कुमार, संतोष. (मई, 2013). जनगणना: क्‍या खत्‍म हो जाएंगे छत्तीसगढ़ के आदिवासी?, इंडिया टुडे 7 मई 2013.

गुप्ता, रमणिका. (2015). आदिवासी : विकास से विस्थापन. नेहा पब्लिशर्स एंड डिस्ट्रीबूटर.


Refbacks

  • There are currently no refbacks.


Creative Commons License
This work is licensed under a Creative Commons Attribution 3.0 License.