निर्बल वर्ग के परिवारों के लिए समाज कल्याण विभाग व्दारा संचालित योजनाओं का अध्य यन

Umesh Chandra Arya

Abstract


राज्‍य सरकार व्‍दारा समाज के कमजोर वर्गो, विशेषतः अनुसुचित जाति एवं जनजाति वर्ग के सामाजिक, आर्थिक एवं शैक्षिक रूप से पिछडेपन को दूर करने के लिए राज्‍य की पंचवर्षीययोजनाओं एवं वार्षिक योजनाओं में विशेष प्राविधानकर इसके निराकरण के प्रयास किये जा रहे है!  कल्‍याणकारी राज्‍य की स्‍थापना का स्‍वरूप तभी साकार हो सकता है! जब समाज के निर्धनवर्ग की मूलभूत आवश्‍यकताओं की पूर्ति करने में सफलता प्राप्‍त हो सकें समाज के कमजोर वर्गो का उत्‍थान करना किसी भी सरकार की पहली जिम्‍मेदारी है!  ताकि इस वर्ग को शैक्षिक आर्थिक व सामाजिक समानता दिलाकर राज्‍य की मुख्‍यधारा में इन वर्गो के अमूल्‍य योगदान का सदुपयोग हो सकें !  सामाजिक आर्थिक दृष्टि से यद्यपि महिलाओं की स्थिति में कुद हद तक परिवर्तन आया है ! परन्‍तु ग्रामीण समुदाय आज भी अन्‍धविश्‍वासों कों धर्म का एक अंग मानते है !  यद्यपि ग्रामीण महिलाएं समुदाय भी शिक्षित व आर्थिक रूप से सम्‍पन्‍न हो जाऐ तो निसन्‍देह ग्रामीण महिलाएं भी शहरी महिलाओं के समान पुरूषें के साथ कन्‍धे से कन्‍धा मिलाकर चल सकेंगी !  जिसके लिए समाज कल्‍याण विभाग ग्रामीण समुदाय के विकास के लिए विभिन्‍न प्रकार की योजनाओं का कियान्‍वयन कर उनका विकास कर रहा है !


Keywords


निर्बल वर्ग, समाज कल्याण विभाग व्दारा संचालित योजना

Full Text:

PDF

Refbacks

  • There are currently no refbacks.


Creative Commons License
This work is licensed under a Creative Commons Attribution 3.0 License.