भारतीय अर्थव्यवस्था में महिलाओं की भागीदारी पर वैश्वीकरण का प्रभाव: एक आलोचनात्मक अध्ययन

Satpal Yadav

Abstract


     वैश्वीकरण एक जटिल सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक व सांस्कृतिक प्रक्रिया है जो परस्पर जुड़ाव, परस्पर आत्मनिर्भरता की बात करती है। यह व्यक्तियों, वस्तुओं, सेवाओं, संस्कृतियों, विचारधाराओं  के मुक्त प्रवाह पर आधारित है। सूचना,संचार,तकनीकि व परिवहन सेवाओं नें वैश्वीकरण को नई गति दी है। वैश्वीकरण नें मानव जीवन पर कितना असर डाला है  इसके पक्ष व विपक्ष मे अनेक तर्क हैं। वैश्वीकरण नें महिलाओं पर बहुआयामी प्रभाव डाले हैं कई स्तरों पर महिलाओं का जीवन आसान हुआ है तो कई स्तरों पर चुनौतियाँ भी बढ़ी हैं। वैश्वीकरण नें भारतीय अर्थव्यवस्था को नया स्वरूप दिया है, महिलाओं की अर्थव्यवस्था मे भागीदारी को प्रभावित किया है।

  प्रस्तुत शोध आलेख भारतीय अर्थव्यवस्था मे महिलाओं की भागीदारी पर वैश्वीकरण के प्रभावों के विविध पक्षों का आलोचनात्मक अध्ययन करेगा, और कुछ सुझाव भी प्रस्तुत करेगा कि किस प्रकार से अर्थव्यवस्था में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाया जाए।


Full Text:

PDF

References


• Chakrawarti, Manas, Bhutia Yang Lahmu (2007). Empowering Women in new Wake of Globliztaion, Jan-March, Volume-68,115-121, Indian Political Science Association, from www.jstor.org accessed on 10/06/2020.

• Hensman, Rohini (2001). Impact of Globalization on Women, Globalisation and Informal, Volume-36, Issue-3, 31 March, From Economic and Political Weekly from www.epw.in accessed on 15/07/2020.

• Kaur, Pushpinder (2010) Impact of Globalization on Women, Volume-7(2).41-44, March-Aprilfrom www.gifre.org Accessed on 17/06/2020.

• Chaudhary, Ruchika and Sher Verick (2014) Female Labour Force Participation in India and Beyond, October, International Labour Organization-Asia Pacific Working Paper Series from www.oit.org accessed on 18/06/2020.

• Himanshu (2011):“Employment Trends in India: A Re-examination”, Economic & Political Weekly,10September.http://mospi.nic.in/Mospi_New/upload/nss_report_559_10oct14.,accessed Dec. 2014.

• Tandon, Suneera (2018). India’s Women are Secret to Potential Economic Bloom, Agenda, World Economic Forum, from www.weforum.org accessed on 10/06/2020.

• Patel Dashrathbhai (2014). Impact of Globalization on Women Workforce Participation in India, Volume-2, Issue-5, International Journal of Research in Humanities and Social Sciences from www.raijmr.com accessed on 10/07/2020.

• Srinivasan, T.N. (2010): “Employment and India’s Development and Reforms”, Journal of Comparative Economics, Vol.38 p.82–106. 27

• Srivastava, N. & Srivastava, R. (2010): “Women, Work, and Employment Outcomes in Rural India”, Economic & Political Weekly, 10th July.

• World Bank (2010): India’s Employment Challenge. Creating Jobs, Helping Workers, The World Bank, New Delhi: Oxford University Press.

• World Bank (2012): Gender Equality and Development, Washington D.C., The World Bank

• https://editorialexpress.com/cgibin/conference/download.cgi?db_name=IAFFE15&paper_id=334

• दुबे,अभय कुमार(2008).भारत का भूमंडलीकरण, नई दिल्ली: वाणी प्रकाशन.

• शर्मा,राजेंद्र, प्रो कमला प्रसाद (2009).स्त्री मुक्ति का सपना,नई दिल्ली: वाणी प्रकाशन.

• यादव,राजेन्द्र (2003). सांस्कृतिक मोर्चाबंदी का इतिहास, नई दिल्ली:वाणी प्रकाशन.

• सिंह,नमिता(2017). स्त्री प्रश्न, नई दिल्ली वाणी प्रकाशन.

• खेतान,प्रभा(2009)।उपनिवेश में स्त्री मुक्ति कामना की दस वार्ताएं, 34, नई दिल्ली: राजकमल प्रकाशन

• खेतान,प्रभा(2007). बाजार के बीच : बाजार के खिलाफ, नई दिल्ली: वाणी प्रकाशन.


Refbacks

  • There are currently no refbacks.


Creative Commons License
This work is licensed under a Creative Commons Attribution 3.0 License.