गोंड जनजाति और उनके धार्मिक अनुष्‍ठान (एक समाजशास्‍त्रीय अध्‍ययन)

Kamalesh Pal

Abstract


गोंड भारत की प्रमुख जनजातियों में से एक है।  मध्‍य प्रदेश और छतीसगढ के पठारी तथा जंगली भागोंकी में अनेक जनजातियों के लोग रहते है जिसमें सर्वाधिक संख्‍या गोंड जनजाति की है।मध्‍य प्रदेश में गोंड जनजातियों का विस्‍तार सतपुडा रेंज के छिंदवाडा बैतूल, हरदा, होषंगाबाद, सिवनी, नरसिंहपुर तथा मंडला जिलो में प्रमुख रुप से फैला हुआ है ।  इस जनजाति में धार्मिक अनुष्‍ठान अन्‍य जातियों और जनजातियों की तरह ही होता है।  आधुनिकता और शासकीय योजनाओं के बावजूद भी ये अपनी धार्मिक परम्‍परायें आज भी बनाये हुई है।  जबकि संतोषी एवं जीने खाने की मानसिकता परिश्रम और रुढिया इनके जीवन से आज भी प्रथक नहीं हो रही है।

Full Text:

PDF

Refbacks

  • There are currently no refbacks.


Creative Commons License
This work is licensed under a Creative Commons Attribution 3.0 License.